मानसून कील देखभाल; जानें शीर्ष 12 लक्षण और 5 कारण

अच्छा लगे तो शेयर जरूर करें

नमस्कार आरोग्य ऑनलाइन। (मानसून कील देखभाल) वर्तमान में बारिश का मौसम प्रकोप के कारण हर तरफ महामारी और महामारी का भय बना हुआ है। हाल ही में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखकर हर कोई डरा हुआ है. कोई भी बीमारी पसंद नहीं करता है। लेकिन बरसात के मौसम में उसके पास कोई विकल्प नहीं है। लेकिन एक बात यह है कि आपको बीमार होने से बचना चाहिए या ऐसा होने पर तुरंत इलाज कराना चाहिए घरेलू उपचार आप इसका उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए घर की महिलाएं तरह-तरह के काढ़े और दवाईयां बनाती नजर आ रही हैं।

लेकिन क्या सिर्फ मानसून के दौरान महामारी और संक्रमण का डर रहता है..? तो नहीं। इसके अलावा त्वचा और नाखूनों की देखभाल करना भी उतना ही जरूरी है। क्योंकि इन दिनों त्वचा और नाखून भी प्रभावित होते हैं। खासतौर पर पैरों के नाखूनों का खास ख्याल रखना चाहिए। ठहरे हुए पानी, गीले जूते, कीचड़ से पैरों के नाखूनों में संक्रमण हो सकता है। अगर नाखूनों में पहले से ही इंफेक्शन है या फिर नाखूनों में घाव है तो आपको बेहद सावधान रहने की जरूरत है। (मानसून कील देखभाल)

अक्सर हम सोचते हैं कि बारिश के दिनों में सिर्फ मिट्टी, गंदगी और पानी ही पैरों के नाखूनों की सेहत खराब कर सकता है। लेकिन दोस्तों इसके अलावा भी और भी कई कारण हैं जो पैर के नाखूनों की सेहत को खतरे में डालते हैं। हालांकि, मानसून एक बहाना है। बारिश के दौरान पहले से ही कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं पैदा हो जाती हैं। अब हम जिन कारणों के बारे में जानने जा रहे हैं, वे नाखूनों की सेहत के बिगड़ने को और बढ़ा देते हैं। आज भाग 1 में हम मानसून के दौरान पैर की उंगलियों की स्वास्थ्य समस्याओं के कारणों और संक्रमण के लक्षणों के बारे में जानेंगे। तो उसके बाद भाग 2 में हम जानेंगे कि पैर के नाखूनों की देखभाल कैसे की जाती है।

See also  22 साल के युवक ने बनाई लहसुन की कटाई की मशीन; कटाई का काम हुआ आसान
मानसून

0 मानसून के दौरान पैर के नाखूनों में संक्रमण के लक्षण

(मानसून नेल केयर) अगर हमारे शरीर के किसी छोटे या बड़े अंग को चोट लगती है या प्रभावित होता है तो कुछ लक्षण दिखाई देते हैं। अगर इसे समय रहते समझ लिया जाए तो इसे सुलझाना आसान होता है। आइए जानें मानसून के दौरान पैरों के नाखूनों में संक्रमण के निम्नलिखित लक्षण:-

1) पैर में दर्द/धड़कन।

2) नाखूनों में चोट लगना।

3) उंगलियों के नाखूनों का सफेद होना।

4) नाखूनों में दर्द और दाने।

5) नाखूनों में पानी घुसना और मवाद बनना।

6) पैर के नाखूनों का सहज टूटना। (मानसून कील देखभाल)

7) नाखूनों का मलिनकिरण।

8) नाखूनों पर धब्बे का दिखना।

9) फटे नाखून।

10) नाखूनों से लगातार खून आना या डिस्चार्ज होना।

11) नाखूनों के अंदर काला, नीला।

12) नाखूनों पर हरे रंग का लेप।

0 नाखून खराब होने के कारण (मानसून कील देखभाल)

1. शारीरिक अशुद्धता – मानसून के दौरान धूल और मिट्टी विभिन्न तरीकों से हमारे संपर्क में आती है। इसलिए घर आने के बाद नहाना और शुद्ध करना जरूरी है, चाहे गीला हो या न हो। क्योंकि शारीरिक सफाई से भी नाखूनों की सेहत बिगड़ सकती है। यह डर मुख्य रूप से उन लोगों में पाया जाता है जो मिट्टी का खेल खेलते हैं।

मानसून कील देखभाल

2. पैरों पर गिरने वाली भारी वस्तुएँ – दुर्घटना या कोई भारी वस्तु अनजाने में पैर पर गिरने की स्थिति में नाखून क्षतिग्रस्त हो जाते हैं। नाखूनों पर कुछ दिनों तक सूजन नजर आती है लेकिन उसके बाद नाखून ठीक हो जाते हैं। इस वजह से हम ज्यादा ध्यान नहीं देते। लेकिन इससे नाखूनों को काफी नुकसान होता है। क्योंकि अगर उंगली की किसी नस में चोट लग जाए तो इसका असर नाखूनों पर पड़ता है। नाखून कमजोर हो जाते हैं और संक्रमण के लिए खुले हो जाते हैं। (मानसून कील देखभाल)

See also  Documents Required for Issuance of Passport / Passport Helpline Number / Passport Status / Passport Renewal
मानसून कील देखभाल

3. गलत जूते- यहां तक ​​कि मानसून के दौरान बारिश की चप्पलों का इस्तेमाल न करने से भी पैरों और नाखूनों के लिए भी समस्या हो सकती है। इससे पैरों और नाखूनों के पास के क्षेत्र में दर्द होता है। जो जूते बहुत टाइट होते हैं, वे हल्के दर्द से लेकर चोट के निशान तक की समस्या पैदा कर सकते हैं। इससे मृत नाखूनों की समस्या हो सकती है।

मानसून कील देखभाल

4. त्वचा विकार – (मानसून नेल केयर) अगर आपको त्वचा संबंधी कोई गंभीर बीमारी है तो मानसून के दौरान नाखून में संक्रमण होने का डर रहता है। क्योंकि नाखूनों के बीच की त्वचा पहले से ही नाजुक और क्षतिग्रस्त होती है। जिससे कोई भी संक्रमण बिना खाए ही शरीर में प्रवेश कर सकता है।

मानसून कील देखभाल

5. नाखूनों के बीच चोट लगना- अक्सर हम अपने नाखून काटते समय बहुत ज्यादा काट लेते हैं और इससे चोट लग जाती है। लेकिन उनकी उपेक्षा की जाती है क्योंकि वे ठीक हो जाते हैं और फिर मानसून के दौरान पीड़ित होते हैं। अगर पैर लंबे समय तक पानी में रहते हैं, तो पैर के नाखूनों में संक्रमण का खतरा होता है। नाखून काले, नीले, हरे या सफेद हो सकते हैं। (मानसून कील देखभाल)

यह भी पढ़ें:-

कृत्रिम नाखून: रंगीन कृत्रिम नाखून स्वास्थ्य को बढ़ावा देंगे; जानिए इसके दुष्परिणाम

समय रहते सावधान रहें!!! उंगलियों के नाखून ‘इन’ बीमारियों का संकेत देते हैं; जानें लक्षण और इलाज

बिना नुकसान के गंदे नाखूनों को कैसे साफ करें ?; पता लगाना

लंबे नाखून दिखने में आकर्षक लेकिन सेहत के लिए हानिकारक होते हैं; पता लगाना

See also  गाजर गवताचा नायनाट करण्यासाठी मित्र कीटकाची मदत ; जाणून घ्या काय आहे हा उपाय ?

नेल ब्यूटी पार्लर क्यों?; पता लगाना

नाखून खराब स्वास्थ्य का संकेत देते हैं; सीखो कैसे

अच्छा लगे तो शेयर जरूर करें

Leave a Comment