मोठ बीन लाभ| मराठी में जानें शीर्ष 5 लाभ

अच्छा लगे तो शेयर जरूर करें

हेलो हेल्थ ऑनलाइन | (Moth Bean Benefits) दालों को अपने आहार में शामिल करना बहुत जरूरी है। क्योंकि दालों के पोषक तत्व शारीरिक प्रदर्शन के लिए बहुत जरूरी होते हैं। इसलिए डाइट एक्सपर्ट्स का कहना है कि डाइट में कई तरह की दालें खानी चाहिए। इसमें हम विभिन्न दालों जैसे मूंग दाल, अरहर की दाल, मसूर की दाल, चना दाल को अपने नियमित आहार में लेते हैं। इनमें से, मट्ठा दाल उच्च पोषण मूल्य वाली एक प्रकार की दाल है।

एक तरह से मट्ठा दाल सुपर फूड है क्योंकि यह दाल अत्यधिक पौष्टिक होने के बावजूद हर किसी की जेब में जा सकती है। हां बहुत सस्ती कीमत पर मट्ठा दाल को एक स्वस्थ विकल्प के रूप में देखा जाता है। तो यह दाल बहुत है स्वस्थ माना जाता है

माताओं

पोषण में सभी दालों में सबसे ऊपर (मोथ बीन लाभ) अपने आहार में मोठ को शामिल करने से आपके स्वास्थ्य को विभिन्न लाभ मिलते हैं। वजन घटाने से लेकर दिमाग तेज करने तक यह दाल कई तरह से सेहतमंद साबित होती है। मट्ठा दाल में विटामिन बी शरीर के सुचारू कामकाज के लिए बहुत सारे लाभकारी लाभ प्रदान करता है। मट्ठा दाल को कई तरह से डाइट में शामिल किया जा सकता है। मठा दाल को फोडनी दाल, आमटी, सांभर, दाल वड़े जैसी कई तरह की रेसिपी बनाकर खाया जा सकता है.

0 गणित की दाल क्या है..?

(Moth Bean Benefits) दोस्तों, हम कब से जानते हैं कि मूंग की दाल कितनी पौष्टिक होती है। लेकिन कई लोगों के मन में यह सवाल हो सकता है कि गणित की दाल क्या है..? दरअसल आप सभी इस प्रकार की दाल को जानते हैं लेकिन अलग-अलग इलाकों में इस दाल को अलग-अलग नामों से जाना जाता है। मठा दाल का मतलब मटकी दाल होता है।

See also  https://www.bestreviewguide.in/ambati-rayadu-cancel-retirement-decision/
मोठ बीन लाभ

0 मठ दाल के स्वास्थ्य गुण

मठा नाड़ी हमारे शरीर को आवश्यक पोषण प्रदान करने की क्षमता रखती है। क्योंकि इन दालों से शरीर को विकास के लिए आवश्यक प्रोटीन, विटामिन, फोलेट, आयरन, जिंक, मैग्नीशियम जैसे महत्वपूर्ण तत्व मिलते हैं। (मोठ बीन लाभ) मट्ठा दाल का सेवन विभिन्न व्यंजनों जैसे वरन, अमती, भाजी, डोसा, खिचड़ी, पुलाव के माध्यम से किया जा सकता है।

लेकिन मट्ठा दाल तभी पौष्टिक साबित होती है जब पकाने और खाने के स्वस्थ तरीके का पालन किया जाए। इसलिए आज हम सीखेंगे कि मट्ठा दाल कैसे बनाते और खाते हैं. इतना ही नहीं आज हम मट्ठा दाल खाने से होने वाले फायदों के बारे में भी जानेंगे। (मोठ बीन लाभ)

अंकुरित

0 मट्ठा दाल बनाना और खाना सीखें

मट्ठा दाल को पौष्टिक तरीके से खाना बहुत जरूरी है। इस दाल को सही तरीके से पकाना भी उतना ही जरूरी है।

सबसे महत्वपूर्ण बात, मटन दाल को एक एयरटाइट कंटेनर या जार में एक टाइट ढक्कन के साथ स्टोर करें। ताकि यह अच्छे से चल सके। (मोठ बीन लाभ)

मट्ठा दाल पकाने से पहले, खाना पकाने में इस्तेमाल करने से पहले इसे साफ कर लें। उसके बाद दाल को धोकर 5 से 6 घंटे के लिए पानी में भिगो दें।

माताओं

अब भीगी हुई दाल को पकाते समय इसमें 1 छोटी चम्मच घी या तेल डाल दीजिए.

घी, जीरा, हींग और हल्दी पाउडर डालकर उबाली हुई दाल को साधारण वरण की तरह बना लें. इसके अलावा दाल को प्याज, लहसुन, सरसों का साग और टमाटर डालकर सब्जी की तरह खाया जा सकता है. इतना ही नहीं, डाइट में मट्ठा दाल का मीठा और खट्टा स्वाद भी खाया जा सकता है.

See also  Kisan Credit Card Scheme 2020 | Eligibility | Documents

(मोठ के फायदे) मट्ठा दाल डालकर खिचड़ी बना लें। इसके लिए आप मट्ठा दाल को भिगोकर, फिर चावल को धोकर और साधारण लहसुन का पेस्ट डालकर खिचड़ी या मसाला खिचड़ी बना लें।

माताओं

आमतौर पर इस्तेमाल होने वाली मट्ठा दाल को भिगो दें और फिर इसे विभाजित करें और मसाला डालकर मट्ठा दाल का सारण बना लें। अब इस सारण के परांठे या पूरी बना लें और इसे अपनी डाइट में शामिल करें.

मट्ठा दाल पुलाव बहुत ही स्वादिष्ट होता है. लेकिन इस पुलाव को बनाते समय अन्य पसंदीदा सब्जियों को भी शामिल करें.

मट्ठा दाल को थोडा़ सा भिगोकर अच्छी तरह पीस लें. अब इसके ऊपर गर्म मिर्च पाउडर, नींबू का रस और बारीक कटा हरा धनिया डालकर अपने नियमित आहार में खाएं। (मोठ बीन लाभ)

माताओं

मट्ठा दाल को निकाल कर कड़ाही में काला नमक डालकर तलने से भी लाभ होता है।

मट्ठा दाल से पौष्टिक सूप भी बनाया जा सकता है. इस सूप में काली मिर्च पाउडर और तरह-तरह की सब्जियां मिलाने से यह सूप स्वादिष्ट और पौष्टिक बनता है.

0 मठरी की दाल खाने के फायदे (मोठ बीन लाभ)

रोग प्रतिरोधक क्षमता

१) इम्युनिटी मजबूत होते – जिन लोगों की इम्युनिटी कमजोर होती है उन्हें अपने नियमित आहार में मटन दाल जरूर खानी चाहिए। यह प्रतिरक्षा को मजबूत करता है और बीमारियों से बचाता है। इसके लिए 1 कटोरी मट्ठा दाल का नियमित सेवन फायदेमंद होता है।

2) कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित होता है – कोलेस्ट्रॉल बढ़ने से कई तरह की बीमारियां होती हैं। इसलिए कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखना जरूरी है। इसलिए कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और नियंत्रित करने के लिए नियमित रूप से मटन दाल का सेवन करें।

See also  मंदार हिल का इतिहास और उसका धार्मिक महत्व
हाई बीपी

3) हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से राहत- (Moth Bean Benefits) मोठ में ऐसे कई गुण होते हैं जो शरीर के लिए आवश्यक होते हैं। उच्च रक्तचाप से पीड़ित लोगों के लिए मट्ठा दाल के ये गुण वरदान हैं।

पाचन

4) पाचन में सुधार करता है – मट्ठा दाल फाइबर और जिंक से भरपूर होती है। इससे मांसपेशियां मजबूत होती हैं। इतना ही नहीं, मटन दालों में यह गुण और फाइबर पाचन में सुधार करता है। इससे वजन कम करना आसान हो जाता है।

पेट दर्द

5) पेट की समस्या दूर करे – शरीर के समुचित कार्य के लिए विटामिन बी आवश्यक है। साथ ही यह दाल विटामिन बी से भरपूर होती है। यह फाइबर में भी उच्च है। इसके कारण अगर आहार में मट्ठा दाल को शामिल किया जाए तो पेट की समस्या भी दूर हो जाती है। (मोठ बीन लाभ)

यह भी पढ़ें:-

बिना छीले फल: क्या आप ‘हाय’ फल छीलकर खाते हैं..? तो तुरंत रुक जाओ; जानिए विशेषज्ञ क्या कह रहे हैं

स्वस्थ फल : ‘इन’ फलों को खाने से पेट की शिकायत दूर रहेगी; पता लगाना

स्लीपिंग पिल्स साइड इफेक्ट: क्या आप नींद नहीं आने के कारण नींद की गोलियां लेते हैं? खबरदार! अन्यथा गंभीर परिणाम होंगे; पता लगाना

आलू कैसे खाएं – आलू खाने से क्या आपका वजन बढ़ता है? एक्सपर्ट कहते हैं खाने का सही तरीका

अगर आप इयरफ़ोन/हेडफ़ोन पर एक ही गाना सुनते हैं तो सावधान हो जाइए! ‘इन’ कारणों से हो सकता है बहरापन

अच्छा लगे तो शेयर जरूर करें

Leave a Comment