गरीब मजदुर का बेटा जिनका दरोगा और सचिव में सफलता

Garib majdur ka beta jinka daroga or sachiv me safalta

गगौर के लाल ने किया कमाल, गरीब मजदुर का बेटा मुकेश कुमार जिनका दरोगा और सचिव में सफलता प्राप्त किया। उनका कहना है की मैंने कम्पटीशन की तैयारी की शुरुआत लक्ष्य कोचिंग से शुरू किया और २ साल तैयारी कि, जिसके बाद मैंने अच्छी तैयारी के लिए धनंजय, सनी सर और मार्ग क्लासेज में कप्टीशन की तैयारी पूर्ण की।

गरीब मजदुर का बेटा मुकेश कुमार जिनका दरोगा और सचिव में सफलता

मैंने पहले ही एटेम्पट में दरोगा का PT, mains निकल लिए थे लेकिन दौड़ दिन बर्षा के कारन २सेकेण्ड से छंट गया। लेकिन मैं हिम्मत नहीं हारा और फिर मैं PT, mains और फिजिकल निकले लेकिन मैं मेरिट में नंबर से छंट गया। फिर भी मैं निराश नहीं हुआ और इस बार कड़ी मेहनत के साथ तैयारी की और पहले पंचायत सचिव का फाइनल मेरिट आया और उसके कुछ दिन बाद दरोगा का भी फाइनल मेरिट आया और मेरा दोनों पोस्ट पर सिलेक्शन हो गया।

यहाँ तक पहुंचने का श्रेय वो अपने माता (सामान्य देवी), पिता (मतलु बिन्द), और भाई(राकेश राज) को देते हैं।

आपको बताते चले की उनका पता ग्राम/पोस्ट-गगौर , प्रखंड घारकुसुम्भा, जिला शेखपुरा के निवासी हैं मुकेश कुमार।

See also  INDUSTRIES IN BIHAR IN COLONIAL TIMES

Leave a Comment